stock-photo-yes-you-can-just-do-not-stop-now-words-on-road-sign-green-150368441

तू रख हौसला वो मंज़र भी आएगा,
प्यासे के पास चलकर खुद समंदर भी आएगा।
थक हार के ना रुकना ऐ मंज़िल के मुसाफिर,
मंज़िल भी मिलेगी मिलने का मज़ा भी आएगा।।

जब ज़ुनून चढ़ जाये कुछ कर दिखाने का
दिल में तसल्ली का सुकून भी आएगा।
बस करता जा तू दिल की तम्मनाओं को पूरा,
मंज़िल भी मिलेगी मिलने का मज़ा भी आएगा।।

मेहनत में कोई कंजूसी न करना ,
वरन बाद में तू पछतायेगा ।
दुनिया ये देखेगी तप से तू तेरे
बंज़र में कमल का फूल खिलायेगा।

उम्मीद और आशा पर लोगो ने दुनियां टिका दी है,
तेरे जज्बे को देख हर कोई सर ज़ुकायेगा।
थक हार के ना रुकना ऐ मंज़िल के मुसाफिर,
मंज़िल भी मिलेगी मिलने का मज़ा भी आएगा।।

– प्रितेश ( PBM )

Advertisements